HomeAgraरूस यूक्रेन समाचार आगरा का छात्र हंगरी सीमा के रास्ते भारत लौट...

रूस यूक्रेन समाचार आगरा का छात्र हंगरी सीमा के रास्ते भारत लौट सकता है


यूक्रेन में फंसे भारतीय छात्रों को निकालने के प्रयास शुरू हो गए हैं। जिससे छात्रों के घर लौटने की आस जगी है। आगरा जिले के कई छात्र यूक्रेन के अलग-अलग शहरों में भी फंसे हुए हैं। समाचार सुनें समाचार सुनें यूक्रेन में युद्ध के बीच वहां फंसे भारतीयों को बचाने के लिए केंद्र सरकार और भारतीय दूतावास ने रोमानिया और हंगरी का रास्ता चुना है. इस रास्ते से भारतीयों को निकालने के प्रयास शुरू कर दिए गए हैं। जिससे यूक्रेन में फंसे भारतीय छात्रों के स्वदेश लौटने की उम्मीद जगी है। आगरा जिले के कई छात्र भी वहां फंसे हुए हैं। ये छात्र लगातार भारतीय दूतावास के संपर्क में हैं। इधर अपनों की चिंता घरवालों को परेशान कर रही है। अच्छी खबर के लिए बार-बार फोन करना। नजरें भी टीवी पर टिकी हैं। शहर के शास्त्रीपुरम निवासी संतोष सिंह ने बताया कि मेरी बेटी श्रेया सिंह यूक्रेन में मेडिसिन की पढ़ाई कर रही है. वह इवानो फ्रांकोइस नेशनल मेडिकल यूनिवर्सिटी में चौथे वर्ष की एमबीबीएस की छात्रा है। शुक्रवार दोपहर बेटी से फोन पर बात करने पर उसने बताया कि मां, उसे भारतीय दूतावास से संदेश मिला है कि वह सबसे जरूरी चीजों को एक छोटे से बैग में रखकर तैयार हो जाए. पोलैंड या हंगरी के रास्ते भारत लाया जाएगा। बेटी की चिंता खायी जा रही है, मैं दिल्ली के हेल्पलाइन नंबरों पर भी कॉल कर जानकारी ले रहा हूं.

टेरनोपिल शहर में फंसे मानवेंद्र सोलंकी

मिधाकुर के नगला गुजरा निवासी पुष्पेंद्र सोलंकी का पुत्र मानवेंद्र सोलंकी (23) भी यूक्रेन में फंसा हुआ है. परिवार के मुताबिक मानवेंद्र वहां एमबीबीएस की पढ़ाई कर रहा है. रूस और यूक्रेन में युद्ध छिड़ने के बाद से परिवार का रो-रोकर बुरा हाल है. परिजनों के मुताबिक मानवेंद्र ने शुक्रवार दोपहर को फोन किया और कहा कि उन्हें कोई मदद नहीं मिल रही है. पुष्पेंद्र ने बताया है कि उनका बड़ा बेटा मानवेंद्र सोलंकी यूक्रेन के टेरनोपिल शहर में रह रहा है. मानवेंद्र टेरनोपिल विश्वविद्यालय में एमबीबीएस चौथे वर्ष का छात्र है। पुष्पेंद्र ने बताया है कि शुक्रवार दोपहर मानवेंद्र को उनके घर फोन आया. मानवेंद्र ने परिवार को बताया कि वह बंकर में रह रहा है। कहीं से कोई मदद नहीं मिल रही है। तब से मानवेंद्र की मां ऋचा सोलंकी ने खाना-पीना बंद कर दिया है। परिवार ने भारत सरकार से भारतीय छात्रों को जल्द से जल्द सुरक्षित भारत लाने का आग्रह किया है।

कॉलेज के सामने बंकर में बिताई रात

शम्साबाद के गांव रंजीतपुरा निवासी रामप्रकाश का पुत्र अनंत सिकरवार यूक्रेन में मेडिसिन की पढ़ाई कर रहा है. अनंत ने फोन कर अपने पिता को बताया था कि गुरुवार को हुए धमाकों के बाद उन्होंने कॉलेज के सामने बंकर में रात बिताई थी. घबराहट हो रही है। दो दिन का खाना भी बचा है। बैंक के एटीएम बंद हैं। पैसे भी नहीं निकाल पा रहे हैं। परिजनों ने प्रधानमंत्री से बच्चे को सकुशल वापस लाने की अपील की है।

विस्तार

यूक्रेन में जंग के बीच वहां फंसे भारतीयों को निकालने के लिए केंद्र सरकार और भारतीय दूतावास ने रोमानिया और हंगरी का रास्ता चुना है. इस रास्ते से भारतीयों को निकालने के प्रयास शुरू कर दिए गए हैं। जिससे यूक्रेन में फंसे भारतीय छात्रों के स्वदेश लौटने की उम्मीद जगी है। आगरा जिले के कई छात्र भी वहां फंसे हुए हैं। ये छात्र लगातार भारतीय दूतावास के संपर्क में हैं। इधर अपनों की चिंता घरवालों को परेशान कर रही है। अच्छी खबर के लिए बार-बार फोन करना। नजरें भी टीवी पर टिकी हैं। शहर के शास्त्रीपुरम निवासी संतोष सिंह ने बताया कि मेरी बेटी श्रेया सिंह यूक्रेन में मेडिसिन की पढ़ाई कर रही है. वह इवानो फ्रांकोइस नेशनल मेडिकल यूनिवर्सिटी में चौथे वर्ष की एमबीबीएस की छात्रा है। शुक्रवार दोपहर बेटी से फोन पर बात करने पर उसने बताया कि मां, उसे भारतीय दूतावास से संदेश मिला है कि वह सबसे जरूरी चीजों को एक छोटे से बैग में रखकर तैयार हो जाए. पोलैंड या हंगरी के रास्ते भारत लाया जाएगा। बेटी की चिंता खायी जा रही है, मैं दिल्ली के हेल्पलाइन नंबरों पर भी कॉल कर जानकारी ले रहा हूं.

टेरनोपिल शहर में फंसे मानवेंद्र सोलंकी

मिधाकुर के नगला गुजरा निवासी पुष्पेंद्र सोलंकी का पुत्र मानवेंद्र सोलंकी (23) भी यूक्रेन में फंसा हुआ है. परिवार के मुताबिक मानवेंद्र वहां एमबीबीएस की पढ़ाई कर रहा है. रूस और यूक्रेन में युद्ध छिड़ने के बाद से परिवार का रो-रोकर बुरा हाल है. परिजनों के मुताबिक मानवेंद्र ने शुक्रवार दोपहर को फोन किया और कहा कि उन्हें कोई मदद नहीं मिल रही है. ,


नीचे दिए गए लिंक को क्लिक करे और ज्वाइन करें हमारा टेलीग्राम ग्रुप और उत्तर प्रदेश की ताज़ा खबरों से जुड़े रहें | 

>>>Click Here to Join our Telegram Group & Get Instant Alert of Uttar Prdaesh News<<<

( News Source – News Input – Source )

( मुख्य समाचार स्रोत – स्रोत )
RELATED ARTICLES

Most Popular

Recent Comments

error: Content is protected !!