HomeFarrukhabadबोर्ड परीक्षा- नई फोटो अपलोड नहीं करने पर 494 छात्रों के प्रवेश...

बोर्ड परीक्षा- नई फोटो अपलोड नहीं करने पर 494 छात्रों के प्रवेश पत्र रोके जा सकते हैं


खबर सुनें फर्रुखाबाद खबर सुनें। माध्यमिक शिक्षा बोर्ड के सचिव ने 494 विद्यार्थियों के प्रवेश पत्र धुंधली व अस्पष्ट फोटो के स्थान पर रोकने तथा 95 विद्यार्थियों के नि:शक्तता प्रमाण पत्र परिषद की वेबसाइट पर अपलोड न करने पर चेतावनी दी है। 81 इंटर कॉलेजों के प्राचार्यों को 28 फरवरी की शाम तक फोटो और प्रमाण पत्र अपलोड करने का आदेश दिया गया है. बोर्ड परीक्षा 2022 के लिए जिले में 66 परीक्षा केंद्र बनाए गए हैं. करीब 43 हजार छात्र परीक्षा देंगे। रजिस्ट्रेशन के दौरान छात्रों के फोटो काउंसिल की वेबसाइट पर अपलोड कर दिए गए थे। जिसमें तस्वीरों में उनके कई चेहरे साफ नहीं दिख रहे हैं। पंजीकरण के दौरान छात्रों को विकलांग दिखाने वाले कई प्रधानाध्यापकों ने वेबसाइट पर विकलांगता प्रमाण पत्र अपलोड नहीं किया है। माध्यमिक शिक्षा मंडल के सचिव ने 21 फरवरी को जिला विद्यालय निरीक्षक को आदेश दिया था कि प्राचार्यों के माध्यम से नि:शक्त छात्रों के धुंधले फोटो व विकलांग प्रमाण पत्र वाले विद्यार्थियों के स्पष्ट व नए फोटो परिषद की वेबसाइट पर अपलोड करें. 28 फरवरी अपलोड करने की आखिरी तारीख थी। प्राचार्यों की लापरवाही के चलते अब तक फोटो व विकलांग प्रमाण पत्र अपलोड करने का कार्य पूरा नहीं हो पाया है। इस संबंध में माध्यमिक शिक्षा बोर्ड के सचिव ने जिले के 81 महाविद्यालयों के 494 छात्रों, फोटोग्राफ और 95 विकलांग छात्रों की सूची जारी की है. इन कॉलेजों के प्राचार्यों को चेतावनी दी गई है कि 28 फरवरी तक अगर विकलांग छात्रों के नए और स्पष्ट फोटो और प्रमाण पत्र धुंधली तस्वीरों के स्थान पर अपलोड नहीं किए गए तो सभी के प्रवेश पत्र रोक दिए जाएंगे. जिला विद्यालय निरीक्षक डॉ. आदर्श कुमार त्रिपाठी ने बताया कि माध्यमिक शिक्षा बोर्ड के सचिव के आदेश की प्राप्ति पर 81 महाविद्यालयों के प्राचार्यों को नोटिस जारी कर फोटो व विकलांग प्रमाण पत्र अपलोड करने का आदेश दिया गया है. फर्रुखाबाद। माध्यमिक शिक्षा बोर्ड के सचिव ने 494 विद्यार्थियों के प्रवेश पत्र धुंधली व अस्पष्ट फोटो के स्थान पर रोकने तथा 95 विद्यार्थियों के नि:शक्तता प्रमाण पत्र परिषद की वेबसाइट पर अपलोड न करने पर चेतावनी दी है। 81 इंटर कॉलेजों के प्राचार्यों को 28 फरवरी की शाम तक फोटो और प्रमाण पत्र अपलोड करने का आदेश दिया गया है. बोर्ड परीक्षा 2022 के लिए जिले में 66 परीक्षा केंद्र बनाए गए हैं. करीब 43 हजार छात्र परीक्षा देंगे। रजिस्ट्रेशन के दौरान छात्रों के फोटो काउंसिल की वेबसाइट पर अपलोड कर दिए गए थे। जिसमें तस्वीरों में उनके कई चेहरे साफ नहीं दिख रहे हैं। पंजीकरण के दौरान छात्रों को विकलांग दिखाने वाले कई प्रधानाध्यापकों ने वेबसाइट पर विकलांगता प्रमाण पत्र अपलोड नहीं किया है। माध्यमिक शिक्षा मंडल के सचिव ने 21 फरवरी को जिला विद्यालय निरीक्षक को आदेश दिया था कि प्राचार्यों के माध्यम से नि:शक्त छात्रों के धुंधले फोटो व विकलांग प्रमाण पत्र वाले विद्यार्थियों के स्पष्ट व नए फोटो परिषद की वेबसाइट पर अपलोड करें. 28 फरवरी अपलोड करने की आखिरी तारीख थी। प्राचार्यों की लापरवाही के चलते अब तक फोटो व विकलांग प्रमाण पत्र अपलोड करने का कार्य पूरा नहीं हो पाया है। इस संबंध में माध्यमिक शिक्षा बोर्ड के सचिव ने जिले के 81 महाविद्यालयों के 494 छात्रों, फोटोग्राफ और 95 विकलांग छात्रों की सूची जारी की है. इन कॉलेजों के प्राचार्यों को चेतावनी दी गई है कि 28 फरवरी तक अगर विकलांग छात्रों के नए और स्पष्ट फोटो और प्रमाण पत्र धुंधली तस्वीरों के स्थान पर अपलोड नहीं किए गए तो सभी के प्रवेश पत्र रोक दिए जाएंगे. जिला विद्यालय निरीक्षक डॉ. आदर्श कुमार त्रिपाठी ने बताया कि माध्यमिक शिक्षा बोर्ड के सचिव के आदेश की प्राप्ति पर 81 महाविद्यालयों के प्राचार्यों को नोटिस जारी कर फोटो व विकलांग प्रमाण पत्र अपलोड करने का आदेश दिया गया है. ,

UttarPradeshLive.Com Home Click here

( News Source – News Input – Source )

( मुख्य समाचार स्रोत – स्रोत )
RELATED ARTICLES

Most Popular

Recent Comments

error: Content is protected !!