HomeUttar Pradesh Newsअंतरराष्ट्रीय ध्रुपद मेला शुरू, देर रात तक रही सुरगंगा

अंतरराष्ट्रीय ध्रुपद मेला शुरू, देर रात तक रही सुरगंगा


समाचार सुनें समाचार सुनें ध्रुपद मेले की पहली निशा की शुरुआत ध्रुपद के प्राचीन रूप सुरबहार के वादन से हुई। ध्रुपद की मधुर संध्या की शुरुआत बनारस घराने के सुप्रसिद्ध सुरबहार वादक पद्मश्री पंडित शिवनाथ मिश्र व पंडित देवव्रत मिश्र की प्रस्तुति से हुई। उन्होंने पहले राग यमन में अलाप किया, उसके बाद धमार ताल में जोड़ और बंदिश का प्रदर्शन किया। इसमें राग में स्वरों की गति के साथ-साथ लयकारी और तृतीय की प्रधानता है। पिता-पुत्र की जोड़ी की अद्भुत जुगलबंदी ने दर्शकों को मंत्रमुग्ध कर दिया। पखावज में उनके साथ अंकित पारिख। अंतरराष्ट्रीय ध्रुपद मेले का उद्घाटन शनिवार को महंत प्रो. विश्वम्भरनाथ मिश्र और उत्तर प्रदेश नाटक अकादमी के अध्यक्ष पद्मश्री डॉ. राजेश्वर आचार्य ने दीप प्रज्ज्वलित कर तुलसी घाट पर किया. प्रथम प्रस्तुति में सुरबहार की प्रस्तुति में अलपचारी के साथ पिता-पुत्र की जोड़ी राम यमन में आलाप जोड़ के साथ धमार के साथ घुलमिल गई। अंकित पारिख ने पखवाज एसोसिएशन किया। ध्रुपद मेले के संयोजक प्रो. विश्वम्भरनाथ मिश्र ने ध्रुपद मेले को नई ऊर्जा और साधना का प्रतीक बताया। अतिथियों का स्वागत संदीप पाण्डेय एवं जेपी पाठक ने किया। दूसरी प्रस्तुति में पं. ऋत्विक सान्याल और प्रबल नाथ की पखवाज की तीसरी प्रस्तुति। चौथी प्रस्तुति में बनारस के युवा बांसुरी वादक डॉ. हरि प्रसाद पौडवाल ने दर्शकों को मंत्रमुग्ध कर दिया. अमृतवर्षिणी राग में आलाप, जोड़, झाला के बाद उन्होंने चौटाल में बंदिश पेश की. अप्रचलित रागों में से एक, इस राग में गमक और तन के अनूठे संयोजन ने श्रोताओं को मंत्रमुग्ध कर दिया। इसके बाद उन्होंने ऋतु के अनुसार तेज लय सुलताल में राग बहार बजाकर कार्यक्रम का समापन किया। संचालन सौरभ चक्रवर्ती ने किया। ध्रुपद मेले की पहली निशा ध्रुपद के प्राचीन रूप सुरबहार के वादन से शुरू हुई। ध्रुपद की मधुर संध्या की शुरुआत बनारस घराने के सुप्रसिद्ध सुरबहार वादक पद्मश्री पंडित शिवनाथ मिश्र व पंडित देवव्रत मिश्र की प्रस्तुति से हुई। उन्होंने पहले राग यमन में अलाप किया, उसके बाद धमार ताल में जोड़ और बंदिश का प्रदर्शन किया। इसमें राग में स्वरों की गति के साथ-साथ लयकारी और तृतीय की प्रधानता है। पिता-पुत्र की जोड़ी की अद्भुत जुगलबंदी ने दर्शकों को मंत्रमुग्ध कर दिया। पखावज में उनके साथ अंकित पारिख। अंतरराष्ट्रीय ध्रुपद मेले का उद्घाटन शनिवार को महंत प्रो. विश्वम्भरनाथ मिश्र और उत्तर प्रदेश नाटक अकादमी के अध्यक्ष पद्मश्री डॉ. राजेश्वर आचार्य ने दीप प्रज्ज्वलित कर तुलसी घाट पर किया. प्रथम प्रस्तुति में सुरबहार की प्रस्तुति में अलपचारी के साथ पिता-पुत्र की जोड़ी राम यमन में आलाप जोड़ के साथ धमार के साथ घुलमिल गई। अंकित पारिख ने पखवाज एसोसिएशन किया। ध्रुपद मेले के संयोजक प्रो. विश्वम्भरनाथ मिश्र ने ध्रुपद मेले को नई ऊर्जा और साधना का प्रतीक बताया। अतिथियों का स्वागत संदीप पाण्डेय एवं जेपी पाठक ने किया। दूसरी प्रस्तुति में पं. ऋत्विक सान्याल और प्रबल नाथ की पखवाज की तीसरी प्रस्तुति। चौथी प्रस्तुति में बनारस के युवा बांसुरी वादक डॉ. हरि प्रसाद पौडवाल ने दर्शकों को मंत्रमुग्ध कर दिया. अमृतवर्षिणी राग में आलाप, जोड़, झाला के बाद उन्होंने चौटाल में बंदिश पेश की. अप्रचलित रागों में से एक, इस राग में गमक और तन के अनूठे संयोजन ने श्रोताओं को मंत्रमुग्ध कर दिया। इसके बाद उन्होंने ऋतु के अनुसार तेज लय सुलताल में राग बहार बजाकर कार्यक्रम का समापन किया। संचालन सौरभ चक्रवर्ती ने किया। ,


नीचे दिए गए लिंक को क्लिक करे और ज्वाइन करें हमारा टेलीग्राम ग्रुप और उत्तर प्रदेश की ताज़ा खबरों से जुड़े रहें | 

>>>Click Here to Join our Telegram Group & Get Instant Alert of Uttar Prdaesh News<<<

( News Source – News Input – Source )

( मुख्य समाचार स्रोत – स्रोत )
RELATED ARTICLES

Most Popular

Recent Comments

error: Content is protected !!