समाचार डेस्क, अमर उजाला, बदायूं

द्वारा प्रकाशित: विकास कुमार
अपडेट किया गया शुक्र, 11 मार्च 2022 05:35 PM IST

मतगणना में एक बार फिर बीजेपी की सरकार बनने जा रही है. इसके साथ ही विरियादंडी के किसान विजय सिंह ने भी जीत हासिल की है।

खबर सुनो

खबर सुनो

मतगणना में एक बार फिर बीजेपी की सरकार बनने जा रही है. इसके साथ ही विरियादंडी के किसान विजय सिंह ने भी जीत हासिल की है। हालांकि उन्होंने चुनाव नहीं लड़ा था, लेकिन उन्होंने बीजेपी की सरकार बनाने की शर्त रखी थी. शर्त के मुताबिक अब विजय सिंह शेर अली के खेत की चार बीघा फसल एक साल तक काटेंगे।

शेखूपुर विधानसभा क्षेत्र के ग्राम विरियादंडी निवासी किसान विजय सिंह और शेर अली के बीच सट्टा चल रहा था। 6 मार्च को दोनों किसान गांव की चौपाल पर बैठे थे. इस दौरान उनके बीच कहासुनी हो गई। विजय सिंह कह रहे थे कि इस बार फिर से बीजेपी की सरकार बनेगी. जबकि शेर अली दावा कर रहे थे कि सपा की सरकार बनेगी। दोनों अपने-अपने दावे पर अड़े रहे। इसके साथ ही उन्होंने एक शर्त रखी कि जिसके अनुसार सरकार बनेगी। वह दूसरे की चार बीघा जमीन पूरे साल भर काटेगा।

वादा पक्का था कि उसने भी इसे लिख-पढ़ना जरूरी समझा। उनके बीच एक समझौता ज्ञापन लिखा गया, जिस पर सभी ग्रामीणों ने हस्ताक्षर किए। इधर, गुरुवार सुबह जब मतगणना शुरू हुई तो भाजपा की सरकार बनने के आसार नजर आ रहे थे. शाम होते-होते साफ हो गया कि इस बार सिर्फ बीजेपी की सरकार बनेगी. इससे शेर अली अपनी बाजी हार गया और विजय सिंह जीत गया। अब विजय सिंह एक साल के लिए शेर अली के खेत की चार बीघा फसल काटेंगे।

शर्त है एक शर्त, गांव के बाहर देंगे चार बीघा खेत
मतगणना का परिणाम देखकर शेर अली ने अपनी हार स्वीकार कर ली। उन्होंने बताया कि जिस तरह से आंकड़े देखे गए हैं। उनके अनुसार विजय सिंह ने बाजी जीत ली। फायदे और नुकसान हैं। शर्त यह है कि इसके साथ ही वह गांव से आधा किलोमीटर दूर स्थित चार बीघा जमीन विजय सिंह को देंगे.

समय बताएगा कि मैं खेत लूंगा या नहीं
मतगणना के आंकड़े देखकर विजय सिंह ने खुशी जाहिर की। उन्होंने कहा कि हो सकता है कि उन्होंने बाजी जीत ली हो। वह मैदान में उतरेंगे या नहीं, यह तो वक्त ही बताएगा। पहले वह शेर अली का हाल भी देखेंगे। फिर हम इस मामले पर फैसला करेंगे।

विस्तार

मतगणना में एक बार फिर बीजेपी की सरकार बनने जा रही है. इसके साथ ही विरियादंडी के किसान विजय सिंह ने भी जीत हासिल की है। हालांकि उन्होंने चुनाव नहीं लड़ा था, लेकिन उन्होंने बीजेपी की सरकार बनाने की शर्त रखी थी. शर्त के मुताबिक अब विजय सिंह शेर अली के खेत की चार बीघा फसल एक साल तक काटेंगे।

शेखूपुर विधानसभा क्षेत्र के ग्राम विरियादंडी निवासी किसान विजय सिंह और शेर अली के बीच सट्टा चल रहा था। 6 मार्च को दोनों किसान गांव की चौपाल पर बैठे थे. इस दौरान उनके बीच कहासुनी हो गई। विजय सिंह कह रहे थे कि इस बार फिर से बीजेपी की सरकार बनेगी. जबकि शेर अली दावा कर रहे थे कि सपा की सरकार बनेगी। दोनों अपने-अपने दावे पर अड़े रहे। इसके साथ ही उन्होंने एक शर्त रखी कि जिसके अनुसार सरकार बनेगी। वह दूसरे की चार बीघा जमीन पूरे साल भर काटेगा।

वादा पक्का था कि उसने भी इसे लिख-पढ़ना जरूरी समझा। उनके बीच एक समझौता ज्ञापन लिखा गया, जिस पर सभी ग्रामीणों ने हस्ताक्षर किए। इधर, गुरुवार सुबह जब मतगणना शुरू हुई तो भाजपा की सरकार बनने के आसार नजर आ रहे थे. शाम होते-होते साफ हो गया कि इस बार सिर्फ बीजेपी की सरकार बनेगी. इससे शेर अली अपनी बाजी हार गया और विजय सिंह जीत गया। अब विजय सिंह शेर अली की चार बीघा जमीन एक साल तक काटेंगे।

शर्त है एक शर्त, गांव के बाहर देंगे चार बीघा खेत

मतगणना का परिणाम देखकर शेर अली ने अपनी हार स्वीकार कर ली। उन्होंने बताया कि जिस तरह से आंकड़े देखे गए हैं। उनके अनुसार विजय सिंह ने बाजी जीत ली। फायदे और नुकसान हैं। शर्त यह है कि इसके साथ ही वह गांव से आधा किलोमीटर दूर स्थित चार बीघा जमीन विजय सिंह को देंगे.

समय बताएगा कि मैं खेत लूंगा या नहीं

मतगणना के आंकड़े देखकर विजय सिंह ने खुशी जाहिर की। उन्होंने कहा कि हो सकता है कि उन्होंने बाजी जीत ली हो। वह मैदान में उतरेंगे या नहीं, यह तो वक्त ही बताएगा। पहले वह शेर अली का हाल भी देखेंगे। फिर हम इस मामले पर फैसला करेंगे।

,


UttarPradeshLive.Com Home Click here

( News Source – News Input – Source )

( मुख्य समाचार स्रोत – स्रोत )

Subscribe to Our YouTube, Instagram and Twitter – TwitterYoutube and Instagram.

Leave a Reply