टेक डेस्क, अमर उजाला, नई दिल्ली

द्वारा प्रकाशित: कुमार संभवी
अपडेट किया गया सोम, 11 अप्रैल 2022 11:14 PM IST

ट्राई ने कहा कि लंबी अवधि की विकास दर के लिए टेलीकॉम कंपनियों को पैसा लगाना होगा और निवेश को बढ़ावा देना होगा।

खबर सुनो

दूरसंचार नियामक ट्राई ने सोमवार (11 अप्रैल) को प्राइम 5जी स्पेक्ट्रम फ्रीक्वेंसी के आरक्षित मूल्य में 317 करोड़ रुपये की 35 प्रतिशत कटौती की सिफारिश की। इनमें 3300-3670 के फ़्रीक्वेंसी बैंड हैं। ट्राई ने कहा कि यह सिफारिश 700 मेगाहर्ट्ज, 800, 900, 1800 और इसमें शामिल अन्य मेगाहर्ट्ज बैंड के बैंड के लिए है। इसके मुताबिक जितने भी बैंड के दाम आरक्षित हैं, कुल मिलाकर कीमतें पिछली बार के मुकाबले 39 फीसदी कम हैं.

ट्राई ने कहा कि लंबी अवधि की विकास दर के लिए टेलीकॉम कंपनियों को पैसा लगाना होगा और निवेश को बढ़ावा देना होगा। इनके लिए आसान भुगतान विकल्प को भी मंजूरी देनी होगी।

दूरसंचार नियामक ट्राई ने सोमवार (11 अप्रैल) को प्राइम 5जी स्पेक्ट्रम फ्रीक्वेंसी के आरक्षित मूल्य में 317 करोड़ रुपये की 35 प्रतिशत कटौती की सिफारिश की। इनमें 3300-3670 के फ़्रीक्वेंसी बैंड हैं। ट्राई ने कहा कि यह सिफारिश 700 मेगाहर्ट्ज, 800, 900, 1800 और इसमें शामिल अन्य मेगाहर्ट्ज बैंड के बैंड के लिए है। इसके मुताबिक जितने भी बैंड के दाम आरक्षित हैं, कुल मिलाकर कीमतें पिछली बार के मुकाबले 39 फीसदी कम हैं.

ट्राई ने कहा कि लंबी अवधि की विकास दर के लिए टेलीकॉम कंपनियों को पैसा लगाना होगा और निवेश को बढ़ावा देना होगा। इनके लिए आसान भुगतान विकल्प को भी मंजूरी देनी होगी।

,


UttarPradeshLive.Com Home Click here
Check Amazon Mobile Offers Click here

Subscribe to Our YouTube, Instagram and Twitter – TwitterYoutube and Instagram.

Leave a Reply