भोजपुरी में पढ़े – भोजपुरी के नस-नस से बहेला रसवन के धार

अगर कहल जाउ कि केहे के जिनगी में माई आ ओकर आपन बोली जवना के मातृभाषा कहल जाला एकर सबका ले बड़ महत्व होला.

Source link

Leave a Reply