{“_id”:”622e22034d668c6a8b2e770e”, “स्लग”: “आईआईटी-साइंटिस्ट-विल-स्टॉप-द-नेगेटिव-इफेक्ट्स-ऑफ-ड्रग्स”, “टाइप”: “स्टोरी”, “स्टेटस”: “पब्लिश”, ” शीर्षक_एचएन”:”कानपुर: दवाओं के नकारात्मक प्रभावों को रोकने के लिए आईआईटी वैज्ञानिक”,,”श्रेणी”:{“शीर्षक”:”शहर और राज्य”,,”शीर्षक_एचएन”:”शहर और राज्य”,,”स्लग”:”शहर- and -states”}} समाचार डेस्क, अमर उजाला, कानपुर द्वारा प्रकाशित: शिखा पांडे अपडेटेड सन, 13 मार्च 2022 10:26 PM IST IIT कानपुर – फोटो: अमर उजाला

अमर उजाला ई-पेपर कहीं भी, कभी भी पढ़ें।

समाचार सुनें समाचार सुनें IIT कानपुर के वैज्ञानिक चिकित्सा उपकरणों और दवाओं के नकारात्मक प्रभावों को रोकने के लिए शोध करेंगे। इसके लिए IIT ने डेनिश वैज्ञानिकों से हाथ मिलाया है। दिल्ली में आयोजित एक कार्यक्रम में संस्थान के निदेशक प्रो. अभय करंदीकर ने डेनमार्क के डेनमार्क के राजदूत फ्रेडी सावेन के साथ बायोमेडिकल क्षेत्र पर चर्चा की। दोनों वैज्ञानिकों को एक दूसरे के चल रहे शोध की जानकारी मिली। डेनमार्क में भी बायोमेडिकल के क्षेत्र में लगातार नए-नए शोध हो रहे हैं। चिकित्सा उपकरणों और दवाओं के नकारात्मक प्रभावों को रोकने के लिए आईआईटी कानपुर के वैज्ञानिक शोध करेंगे। इसके लिए IIT ने डेनिश वैज्ञानिकों से हाथ मिलाया है। दिल्ली में आयोजित एक कार्यक्रम में संस्थान के निदेशक प्रो. अभय करंदीकर ने डेनमार्क के डेनमार्क के राजदूत फ्रेडी सावेन के साथ बायोमेडिकल क्षेत्र पर चर्चा की। दोनों वैज्ञानिकों को एक दूसरे के चल रहे शोध की जानकारी मिली। डेनमार्क में भी बायोमेडिकल के क्षेत्र में लगातार नए-नए शोध हो रहे हैं। ,

UttarPradeshLive.Com Home Click here

( News Source – News Input – Source )

( मुख्य समाचार स्रोत – स्रोत )

Subscribe to Our YouTube, Instagram and Twitter – TwitterYoutube and Instagram.

Leave a Reply